RBSE REET 2021 | Reet Exam Date 2021 | REET Syllabus | REET Selecton Process | REET Passing Marks | REET Exam Pattern | - NEWS SAPATA

Newssapata Brings You National News, National News in hindi, Tech News. Rajasthan News Hindi, alwar news, alwar news hindi, job alert, job news in hindi, Rajasthan job news in Hindi, Competition Exam, Study Material in Hindi, g.k question, g.k question in hindi, g.k question in hindi pdf, sanskrit literature, sanskrit grammar, teacher exam preparation, jaipur news, jodhpur news, udaipur news, bikaner news, education news in hindi, education news in hindi rajasthan, education news in hindi up,

Breaking

Home Top Ad

Post Top Ad

Saturday, March 27, 2021

RBSE REET 2021 | Reet Exam Date 2021 | REET Syllabus | REET Selecton Process | REET Passing Marks | REET Exam Pattern |

RBSE REET 2021 | Reet Exam Date 2021 | REET Syllabus | REET Selecton Process | REET Passing Marks | REET Exam Pattern |

RBSE REET 2021 | Reet Exam Date 2021 | REET Syllabus | REET Selecton Process | REET Passing Marks | REET Exam Pattern |


दोस्तों राजस्थान में रीट एग्जाम डेट को लेकर काफी असमंजस की स्थिति चल रही थी जो कि खत्म हो गई है। सरकार की ओर से ईडब्ल्युएस आरक्षण लाभ को लेकर 24 मार्च को गठित कमेटी ने अपनी रिपोर्ट सौंप दी है। अब मुख्य मंत्री अशोक गहलोत की ओर से रिपोर्ट के आधार पर रीट एग्जाम डेट भी आगे बढाकर 20 जून 2021 कर दी गई है। हालांकि राजस्थान बोर्ड परीक्षा 25 अप्रेल को कराना चाहता था, लेकिन जैन समाज की ओर से 25 अप्रैल को भगवान महावीर जयंती के कारण डेट आगे बढाने की बात कही जा रही थी। अल्प संख्यक अयोग ने भी सरकार को डेट पर पुनः विचार कर इसे आगे बढाने के लिए निर्देशित किया गया था। सरकार इस पर विचार कर रही थी। अब सरकार ने फैंसला ले लिया है कि यह पेपर अब 20 जून 2021 को होगा। आप नीचे नई विज्ञप्ति देख सकते हैं जिसमें रीट 2021 एग्जाम 20 जून 2021 को कराने की बात कही गई है।

 

RBSE REET 2021 | Reet Exam Date 2021 | REET Syllabus | REET Selecton Process | REET Passing Marks | REET Exam Pattern |

पृच्छा या अनुभाविक साक्ष्य

1 सकमैन का पृच्छा माॅडल है।
(अ) निगमनात्मक
(ब) आगमनात्मक
(स) आगमनात्मक और निगमनात्मक दोनों
(द) उपरोक्त में से कोई नहीं
 
2 शिक्षण प्रतिमान के तत्व हैं
(अ) लक्ष्य और उद्देश्य
(ब) उद्देष्य और संरचना
(स) सामाजिक प्रणाली और मूल्यांकन
(द) उपरोक्त सभी
 
3 पृच्छा पद्धति का प्रारंभ हुआ
-1962 में
 
4 पृच्छा प्रतिमान का प्रवर्तन किसने किया।
-रिचर्ड सकमैन ने।
 
 
5 रिचर्ड सकमैन का पृच्छामाॅडल है।
-आगमनात्म्क
 
6 पृच्छा प्रतिमान का प्रथम चरण है।
-समस्या की पहचान और चयन
 
7 अनुभाविक साक्ष्य होते हैं।
 -अनुभव और अवलोकन पर आधारित।
 
8 समस्या संबंधित प्रयोग करना पृच्छा प्रतिमान का कौनसा चरण है।
-दूसरा चरण
 
9 शिक्षार्थियों के जीवन में अधिगम को जोडने के प्रयास में सामाजिक विज्ञान के शिक्षक को चाहिए कि-
(अ) विषय-वस्तु में विविध सांस्कृतिक दृष्टिकोणों को इरादतन या जानबूझकर एवं सुस्पष्ट करे।
(ब) कक्षा में शिक्षार्थियों को उनके निजी एवं पारिवारिक संदर्भ से चिह्नित करे।
(स) शिक्षार्थियों को अपने उदाहरणों एवं अनुभवों को कक्षा में साझा करने के लिए मौका दे।
उत्तर - अ और स दोनों सही हैं।
 
10 ईजरायल सेफलर ने कितने दार्शनिक शिक्षण प्रतिमान बताए हैं।
-तीन
 
11 जाॅन पी डिकेको ने कितने मनोवैज्ञानिक शिक्षण प्रतिमान बताए हैं।
-चार
 
 
12 ई.ई. हेडन ने कितने शिक्षण प्रतिमान बताए हैं।
-चार
 
13 जाॅन पी डिकेको ने कितने ऐतिहासिक शिक्षण प्रतिमानों का विवेचन किया है।
-तीन
 
14 बू्रस आर जहुआइस ने समस्त शिक्षण प्रतिमानों को कितने समूहों में विभाजित किया है।
-चार समूहों में जिन्हें आधुनिक शिक्षण प्रतिमान कहा जाता है।
-निष्पत्ति प्रत्यय प्रतिमान
-पृच्छा प्रशिक्षण प्रतिमान
-आगमन प्रतिमान
-स्क्रिय अनुकूलन प्रतिमान 

 

1 comment:

Post Bottom Ad